Breaking News

चीन की महत्त्वाकांक्षाओं के कारण अगला ‘९/११’ अंतरिक्ष में होगा – विश्‍लेषक गॉर्डन चँग की चेतावनी

वॉशिंग्टन/बीजिंग – ‘चीन चाँद पर कब्ज़ा करने की कोशिशें कर रहा है। अमरीका ने यदि अंतरिक्ष में होनेवाले अपने स्रोतों की रक्षा करने के लिए गतिविधियाँ नहीं कीं, तो महत्त्वाकांक्षी चीन अगला ‘९/११’ अंतरिक्षक्षेत्र में करायेगा और अमेरिकन्स उसका शिक़ार होंगे’, ऐसी सनसनीखेज़ चेतावनी अमरिकी विश्‍लेषक गॉर्डन चँग ने दी। अमरीका के नवनियुक्त राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन चीन के साथ अंतरिक्षक्षेत्र में साझेदारी के लिए कोशिश करें, ऐसा मशवरा उनके निकटवर्तियों ने दिया होने की ख़बर प्रकाशित हुई है। इस पृष्ठभूमि पर चँग ने, अंतरिक्ष में चीन की महत्त्वाकांक्षाओं का एहसास करा देते हुए उसकी तुलना ठेंठ ‘९/११’ के हमले के साथ की।

अमरीका की अग्रसर वेबसाईट ‘पॉलिटिको’ पर प्रकाशित हुई ख़बर में, नवनियुक्त राष्ट्राध्यक्ष ज्यो बायडेन चीन के साथ अंतरिक्षाक्षेत्र में मर्यादित साझेदारी के लिए पहल करें, ऐसा मशवरा उनके निकटवर्तियों ने दिया होने की बात कही गई है। इसपर अमरिकी दायरे में तीव्र प्रतिक्रिया उठी होकर, विश्‍लेषक गॉर्डन जी. चँग ने एक न्यूज़ चैनल को दिये इंटरव्यू में उसपर ज़ोरदार टिप्पणी की है। ‘अमरीका के पूर्व राष्ट्राध्यक्ष बराक ओबामा के कार्यकाल में अमरीका की अंतरिक्षविषयक नीति मूर्खताभरी थी। इस दौर में अमरीका ने चीन को आगे जाने का मौका दिया और हम पिछड़ गये। इसी दौर में काम किये अधिकारी अब नवनियुक्त राष्ट्राध्यक्ष को चीन के बारे में मशवरा दे रहे हैं’, इसका एहसास चँग ने करा दिया।

‘चीन के साथ अंतरिक्षक्षेत्र में सहयोग, यह बात कागज़ पर बहुत अच्छी दिखती है। लेकिन उसी समय हमें यह भूलना नहीं चाहिए कि चीन हमारी अरबों डॉलर्स की लूट कर रहा है। सबसे चिंताजनक बात यह है कि चीन का अंतरिक्ष कार्यक्रम का संचालन उनके लष्कर द्वारा किया जाता है। इस कारण, अमरीका ने किया हुआ सहयोग आख़िरकार चीन के लष्कर के फ़ायदे का साबित होनेवाला है। इसी सहयोग में से हासिल कीं क्षमताओं के आधार पर चीन का लष्कर अमरिकी नागरिकों को ख़त्म करेगा। इसे मद्देनज़र रखें, तो यह ध्यान में आ जायेगा कि बायडेन को सलाह देनेवाले कितना ख़तरनाक प्रस्ताव दे रहे हैं’, ऐसे आक्रमक शब्दों में चँग ने बायडेन के सलाहकारों को फटकार लगाई।

‘ओबामा ने बाग़ड़ोर सँभालने से पहले अमरीका ने अंतरिक्षक्षेत्र में चीन से बढ़त ली थी। लेकिन उन्होंने चीन को नज़रअन्दाज़ करके अमरीका की बढ़त बरक़रार रखने के लिए कुछ ख़ास कोशिशें नहीं कीं’, ऐसा दावा भी अमरिकी विश्‍लेषक ने किया। लेकिन उसका फ़ायदा उठाकर चीन और रशिया ने अंतरिक्ष क्षेत्र का ‘लष्करीकरण’ शुरू किया और अंतरिक्ष में संघर्ष के लिए खुद को प्रगत शस्त्रों से लैस करा लिया, ऐसा दोषारोपण चँग ने रखा है। ‘चीन चाँद पर दाखिल हुआ होकर, व्यवसायिक एवं लष्करी ऐसे दोनों स्तरों पर चाँद पर वर्चस्व पाने के लिए गतिविधियाँ कर रहा है। ऐसी स्थिति में अमरीका को चाहिए कि वह अपने स्रोतों की रक्षा करने के लिए तेज़ी से कदम उठायें’, ऐसी सलाह भी उन्होंने दी।

अमरीका चीन की सहायता के बिना चाँद पर वर्चस्व प्राप्त कर सकती है, ऐसा दावा गॉर्डन चँग ने किया है। यदि वैसा नहीं हुआ, तो महत्त्वाकांक्षी चीन वर्चस्व पाने के लिए अंतरिक्षक्षेत्र में ‘९/११’ जितना भयानक हमला करा सकता है और उसमें अमेरिकन्स मारे जायेंगे, ऐसा चँग ने जताया। कुछ ही दिन पहले अमरीका के रक्षाबलप्रमुख जनरल मार्क मिले ने, अंतरिक्षक्षेत्र में ‘पर्ल हार्बर’ की घटना की पुनरावृत्ती हो सकती है, ऐसी चेतावनी दी थी। उसीके साथ अब चँग ने, अंतरिक्ष के संभाव्य हमले की तुलना ‘९/११’ से करके, आनेवाले समय में अंतरिक्ष में संघर्ष अधिक से अधिक तीव्र होता जाने के संकेत दिये हैं।

English    मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info