Breaking News

ईरान का ‘अंडरग्राउंड’ परमाणु प्रकल्प शांतिपूर्ण कैसे हो सकता है? – इस्रायली रक्षामंत्री का सवाल

तेल अवीव/कैरो – ‘वैद्यकीय कारणों के लिए परमाणु कार्यक्रम चला रहे हैं, ऐसा ईरान का कहना है तो फिर इसे भूमिगत और गोपनीय क्यों रखा गया है? परमाणु ऊर्जा आयोग के निरिक्षकों को इस परमाणु प्रकल्प में प्रवेश देने से इन्कार क्यों किया जा रहा है? इसका कारण ईरान गोपनीय पद्धती से परमाणु अस्त्र के निर्माण की कोशिश में जुटा है। इससे ईरान को रोकना ही इस्रायल का उद्देश्‍य है। जरुरत पडने पर इसके लिए सीधे ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर हमला करने की तैयारी इस्रायल ने की है’, ऐसी चेतावनी इस्रायली रक्षामंत्री बेनी गांत्ज़ ने दी है।

इस्रायल के रक्षामंत्री गांत्ज़ ने रविवार के दिन इजिप्ट के प्रमुख समाचार चैनल को साक्षात्कार दिया। इस दौरान गांत्ज़ ने ईरान, अमरीका के बायडेन प्रशासन और इस्रायल में जल्द ही होनेवाले चुनाव के मुद्दों पर अपने विचार रखे। ईरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर इस्रायल का लक्ष्य बिल्कुल स्पष्ट होने का बयान रक्षामंत्री गांत्ज़ ने किया। ‘ईरान को परमाणु अस्त्र से सज्जित होने से रोकना सिर्फ इस्रायल के ही नहीं बल्कि क्षेत्रिय और वैश्विक हित के लिए भी सबसे अधिक अहम साबित होता है। ईरान परमाणु अस्त्र से सज्जित हुआ तो खाड़ी क्षेत्र में परमाणु स्पर्धा भड़केगी’, यह दावा भी गांत्ज़ ने किया।

‘ईरान की चरमपंथी हुकूमत को अपने स्वार्थ के लिए, खाड़ी क्षेत्र पर हुकूमत स्थापित करने के लिए परमाणु क्षमता प्राप्त करनी है’, यह आरोप इस्रायली रक्षामंत्री ने लगाया। ईरान के परमाणु कार्यक्रम का विरोध करते समय ईरान की जनता से इस्रायल का बिल्कुल बैर ना होने की बात गांत्ज़ ने स्पष्ट की। लेकिन, ईरान की हुकूमत से हिज़बुल्लाह, हौथी जैसे आतंकी संगठनों को प्राप्त हो रहे समर्थन के खिलाफ इस्रायल की कार्रवाई जारी रहेगी, ऐसा इशारा रक्षामंत्री गांत्ज़ ने दिया है।

अगले दिनों में इस क्षेत्र में युद्ध शुरू हुआ तो वह केवल दो देशों की सेनाओं तक ही सीमित नहीं रहेगा। इस युद्ध में संबंधित देश और क्षेत्र की जनता भी झुलसेगी, यह ड़र इस्रायल के रक्षामंत्री ने व्यक्त किया। इसके लिए इस्रायल के रक्षामंत्री ने लेबनान की हिज़बुल्लाह, गाज़ापट्टी की हमास, इस्लामिक जिहाद जैसी आतंकी संगठनों ने रिहायशी इलाकों में बनाए मिसाईलों के भंड़ारों का भी दाखिला दिया। इन आतंकी संगठनों ने नागरी इलाकों में बनाए हथियारों के भंड़ारों की पूरी जानकारी इस्रायल ने प्राप्त की है, यह इशारा भी गांत्ज़ ने दिया।

‘हिज़बुल्लाह या हमास ने इस्रायल पर हमले किए तो इसमें यहूदियों के साथ ही इस्रायल में मौजूद अरब भी मारे जाएंगे। इस हमले के प्रत्युत्तर में इस्रायल ने लेबनान और गाज़ा में बनाए मिसाइलों के भंड़ारों पर हमला किया तो इसमें बड़ी संख्या में स्थानीय लोग भी मारे जाएंगे’, इस संभावना का अहसास भी गांत्ज़ ने कराया है। लेबनान की राजधानी बैरूत में हिज़बुल्लाह ने ‘अमोनियम नायट्रेट’ के बड़े भंड़ारण का कुछ महीनों पहले ही विस्फोट हुआ था और इस हादसे में निरपराध नागरिक मारे गए थे, इसकी याद भी गांत्ज़ ने इस दौरान ताज़ा की।

ईरान परमाणु अस्त्रों से सज्जित ना हो, इसके लिए इस्रायल ने सभी विकल्प खुले रखे हैं। इसमें ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर ही सीधे कार्रवाई करने का विकल्प भी होने का बयान गांत्ज़ ने किया। साथ ही पहले के ट्रम्प प्रशासन की तरह अमरीका के मौजूद बायडेन प्रशासन के साथ सहयोग स्थापित करने के लिए इस्रायल की कोशिश जारी होने की जानकारी भी रक्षामंत्री ने साझा की।

English   मराठी

इस समाचार के प्रति अपने विचार एवं अभिप्राय व्यक्त करने के लिए नीचे क्लिक करें:

https://twitter.com/WW3Info
https://www.facebook.com/WW3Info